Janhindi - Latest Hindi News Khabare Samachar

1 सेकेण्ड में भाजपा के दिल्ली ऑफ़िस पर कब्ज़ा कर सकती हूँ – ममता बनर्जी

बंगाली मानुस ममता बनर्जी और भाजपा के मोटा भाई अमित शाह के बीच अब जंग केवल ज़ुबानी नहीं रह गयी है। मंगलवार को कोलकाता में हुए रोडशो के बाद TMC और भाजपा के कार्यकर्ताओं में ज़ोरदार झड़प हुई जिसके बाद कई लोगों को चोटें आयीं। सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान पहुंचा और कोलकाता विश्वविद्यालय में रखी ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति भी हुड़दंगियों ने तोड़ दी।

Image result for bengal roadshow violence

इस घटना के बाद पूरे देश का केंद्र दिल्ली से हटकर बंगाल में स्थापित हो गया है। अमित शाह ने आज सुबह राजधानी दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अपना और अपने समर्थकों का बचाव किया और कहा कि अगर वहां पर CRPF के जवान न होते तो वो ज़िंदा वापस नहीं लौटते, इसके आलावा उन्होंने कहा कि ईश्वरचंद्र की मूर्ति खुद तृणमूल के लोगों ने ही तोड़ी है। उनके कार्यकर्ता तो यूनिवर्सिटी के अंदर दाखिल तक नहीं हुए। लेकिन उनके इस झूठ को सोशल मीडिया पर घूम रहे वायरल वीडियो ने बौना साबित कर दिया है जिसमें भाजपा कार्यकर्ता लाठी डंडों के साथ यूनिवर्सिटी का दरवाज़ा तोड़कर अंदर घुस रहे हैं।

Image result for bengal roadshow violence

लेकिन इस बीच अगर सबसे सनसनीखेज़ बयान किसी का आया है तो वो है पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का। इस पूरे घटनाक्रम के जवाब में ममता ने भाजपा को चेताते हुए कहा ‘तुम लोगों का नसीब अच्छा है कि मैं यहां शांत बैठी हूं। वरना मैं एक सेकेंड में दिल्ली में बीजेपी दफ्तर और तुम्हारे घरों पर कब्जा कर सकती हूं’ ये धमकी ममता ने किस तेवर में दी है आप इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लगा सकते हैं कि उन्होंने दिल्ली से बंगाल पहुंचे भाजपा युवा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा को गिरफ़्तार कर लिया है।

Image result for bengal roadshow violence

इतना ही नहीं जब अमित शाह ने ये इल्ज़ाम लगाया कि तृणमूल के कार्यकर्ता पहले से ही यूनिवर्सिटी के गेट पर काले झंडे और ईंट-पत्थर लेकर उनके काफ़िले का इंतज़ार कर रहे थे तो इस पर बंगाल सीम ने कहा कि भाजपा के रोड शो के दौरान TMC के कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन करना जायज़ है और इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है।

Image result for mamta banerjee amit shah

अमित शाह को आड़े हाथों लेते हुए ममता ने कहा “अमित शाह क्या भगवन हैं जो उनके ख़िलाफ़ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता। अमित शाह इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा तोड़ दी. वो सभी बाहरी लोग हैं, बीजेपी मतदान वाले दिन के लिए उन्हें लाई है”

अब एक बात तो तय है कि बंगाल और दिल्ली की ये लड़ाई अभी 7वें चरण से पहले तो ख़त्म नहीं होने वाली है। और इस मामले में और कितने मोड़ आने बाकी हैं ये तो अब वक़्त के साथ ही पता चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *