Janhindi - Latest Hindi News Khabare Samachar

मध्य प्रदेश में 60 लाख फ़र्ज़ी वोटर्स ने किया मतदान, लिस्ट सौंपकर कॉंग्रेस ने की जांच की मांग !!

17वें लोकसभा चुनावों में भाजपा की ज़बरदस्त जीत का अंदाज़ा तो शायद खुद पीएम मोदी और अमित शाह को भी नहीं था। इतिहास में पहली बार 300 का आंकड़ा छूने वाली भाजपा सरकार के लिए हर तरह का जश्न छोटा पड़ रहा था।

लेकिन दूसरी तरफ़ नतीजों के बाद भी कई विपक्षी पार्टियां EVM पर सवाल उठा रही थीं, लेकिन इतने प्रचंड बहुमत के शोर में उनकी आवाज़ नीचे ही दबकर रही गयी। लेकिन अब मध्य प्रदेश से एक ऐसी ख़बर आयी है जिसे सुनकर आपके दिमाग में भी झनझनाहट पैदा हो जायेगी।

Image result for fake voter id in madhya pradesh

एक न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक़ उनके हाथ मध्य प्रदेश की एक वोटर लिस्ट लगी है जिसमें एक बूथ पर 23 वोटर्स की एक ही तस्वीर है और तो और इनके नाम हर बार अलग-अलग हैं। इतना ही नहीं बाकी कई केंद्रों पर एक ही वोटर id नम्बर चार-चार लोगों को दिया गया है। इस सूची के सामने आने के बाद चुनाव आयोग की घिग्घी बंध गयी है और अब वो जांच के आदेश दे रहा है।

अगर सूची पर नज़र डालें तो पता चलता है कि मध्य प्रदेश की भोजपुर विधानसभा के मतदाता केंद्र 245 में मतदाता कार्ड नंबर आईजेपी 3297140 वाले देवचंद इसी बूथ पर आईजेपी 3297249 से मुकेश कुमार हो गये। बूथ नंबर 270 में यही तस्वीर तीन अलग अलग नामों से है, पोलिंग बूथ नंबर 272 पर दो नाम से बूथ नंबर 273 में चार नाम से तो 275 में दो नाम से 276 में भीमसेन नाम से तो बूथ नंबर 280 में तीन अलग-अलग नामों से है।

मध्‍य प्रदेश में 60 लाख फर्जी मतदाता! एक फोटो से 23 वोटर कार्ड

भोजपुर पोलिंग बूथ नंबर 199 मतदाता कार्ड नंबर आईजेपी 3488426 नाम फौजिया खान, यही फोटो मतदाता संख्या आईजेपी 3489499 पर प्रमिला के नाम से है। वैसे ये तस्वीर सिर्फ फौजिया और प्रमिला नहीं, हद इस बात की महिला की तस्वीर पर कार्ड प्रकाश और दिलिप सिंह के भी बने हैं। मतदान केंद्र नंबर 200 में भी यही फोटो 13 और जगहों पर है, अलग-अलग नाम से यानी 36 मतदाता कार्ड एक ही फोटो से बने हैं।

कांग्रेस का आरोप है कि इन दस्तावेजों का पुलिंदा वो दिल्ली लेकर जाएंगे क्योंकि प्रदेश में ऐसे 1-2 नहीं बल्कि 60 लाख फर्जी वोटर हैं जिसे सराकर ने प्रशासन की मदद से तैयार किया है। कांग्रेस प्रवक्ता मानक अग्रवाल ने कहा, ‘एक फोटो है, 40 लोग मतदान कर रहे हैं, उसमें भी पुरूष हैं, महिला भी। पूरे मध्यप्रदेश में हुआ है, हमें जो जानकारी है उसमें 60 लाख फर्जी वोट तैयार किये गये हैं, सारे कलेक्टरों का उपयोग किया गया है, उनको माध्यम बनाया है बीजेपी सरकार ने।

Image result for fake voter id in madhya pradesh

बीजेपी भी कह रही है ऐसी लिस्ट की जांच हो और खामियां दूर की जाएं। पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री विश्वास सारंग ने कहा, ‘वोटर लिस्ट में गलती है तो उसका निराकरण हो लेकिन कहा जाता है कि वोटर लिस्ट ब्रेक नहीं हो सकता ये भी जांच का विषय है। इसमें सरकार या सरकारी अमले का लेना देना नहीं है, चुनाव आयोग को जांच करनी चाहिये’

ऐसी लिस्ट सिर्फ एक विधानसभा नहीं बल्कि कई विधानसभा क्षेत्रों में मिली, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह ने कहा, ‘कुछ तस्वीरें पूर्व वर्षों से हैं, शायद अमले ने जब मतदाता पत्र में तस्वीर लगाने का काम किया तब उनके पास जो तस्वीर नहीं थीं, वहां एक जैसी तस्वीर चिपका दी। मुद्दा ये है ये नहीं होना चाहिये. हम लोग सूची निकाल रहे हैं, प्रयास कर रहे हैं कि हर जिले से वो चेहरे हटा सकें। पूरी प्रक्रिया में सबसे अहम बीएलओ है, कलेक्टर सुपरवाइज करेंगे ये फोटो कटेंगी।

जांच में आगे क्या सामने आएगा ये तो वक़्त ही बताएगा, लेकिन एक बात तय है कि यह बहुत बड़ी ग़लती है जिसके परिणाम बहुत भयंकर हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *