Janhindi - Latest Hindi News Khabare Samachar

कठुआ बलात्कार-हत्याकाण्ड में 3 आरोपियों को उम्रक़ैद, देश भर से आ रही है फाँसी देने की माँग !!

जम्मू कश्मीर के कठुआ में पिछले साल हुए भयावह बलात्कार और हत्याकांड के मामले में सोमवार को पठानकोट की विशेष अदालत ने अपना फ़ैसला सुनाया जिसमें 7 में से 6 आरोपियों को दोषी ठहराया है। अब इन सभी दोषियों की सज़ा का एलान भी हो गया है जिसके मुताबिक़ इनमें से 3 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। ये तीन दोषी मुख्य साज़िशकर्ता सांझीराम, दीपक खजुरिया, प्रवेश कुमार हैं। जबकि 3 अन्य आरोपियों को 25 साल की सजा सुनाई गई है।

Image result for kathua accused

न्यायालय ने दोषियों को 2 अलग-अलग धाराओं में 50-50 हजार और 1 लाख का जुर्माना लगाया है। 3 अन्य आरोपियों को 25 साल की सजा सुनाई गई है, दीपक, सांझी और प्रवेश पर एक-एक लाख का जुर्माना लगाया है। वकील ने बताया कि तीनों आरोपियों को सामूहिक बलात्कार के आरोपों में 25 वर्ष कैद की भी सजा सुनाई गई है। साक्ष्यों को नष्ट करने के लिए पुलिस उपनिरीक्षक आनंद दत्ता, हेड कांस्टेबल तिलक राज और विशेष पुलिस अधिकारी सुरेन्दर वर्मा को पांच वर्ष कैद की सजा सुनाई गई।

6 दोषियों के नाम सांझी राम, दीपक खजूरिया, आनंद दत्‍ता, तिलक राज, सुरेंद्र और प्रवेश हैं। वहीं कोर्ट ने विशाल जंगोत्रा को मामले से बरी कर दिया। मामले में दोषी ठहराए गए 6 आरोपियों में से 4 पुलिसकर्मी हैं। सांझी राम ग्राम प्रधान था जबकि दीपक खजूरिया और सुरेंद्र विशेष पुलिस अधिकारी हैं। तिलक राज हेड कांस्टेबल है और आनंद दत्ता एसआई है। 3 जून को कोर्ट में सुनवाई पूरी हुई थी।

Image result for kathua accused

विशाल ने अपने बचाव में 15 जनवरी 2018 की एक सीसीटीवी फ़ुटेज पेश की जिसमें कि विशाल घटना के समय मौके पर मौजूद नहीं था। यह सीसीटीवी फुटेज 15 जनवरी, 2018 दोपहर करीब 3 बजे की थी। इसमें विशाल उत्‍तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के मीरापुर के एटीएम से पैसे निकालते दिख रहा था।

15 पन्नों के आरोपपत्र के अनुसार पिछले साल 10 जनवरी को अगवा की गयी आठ साल की बच्ची “आसिफा” को कठुआ जिले के एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर उसके साथ दुष्कर्म किया गया। उसे चार दिन तक बेहोश रखा गया और बाद में उसकी हत्या कर दी गई थी।

मामले में रोजाना आधार पर सुनवाई पंजाब के पठानकोट में जिला और सत्र अदालत में पिछले साल जून के पहले सप्ताह में शुरू हुई थी। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले को जम्मू कश्मीर से बाहर भेजने का आदेश दिया था जिसके बाद जम्मू से करीब 100 किलोमीटर और कठुआ से 30 किलोमीटर दूर पठानकोट की अदालत में मामले को भेजा गया।

Image result for rally in support of kathua accused

शीर्ष अदालत का आदेश तब आया जब कठुआ में वकीलों ने क्राइम ब्रांच के अधिकारियों को इस सनसनीखेज मामले में आरोपपत्र दाखिल करने से रोका था। इस मामले में अभियोजन दल में जे के चोपड़ा, एस एस बसरा और हरमिंदर सिंह शामिल थे। अपराध शाखा ने इस मामले में ग्राम प्रधान सांजी राम, उसके बेटे विशाल, किशोर भतीजे तथा उसके दोस्त आनंद दत्ता को गिरफ्तार किया था। इस मामले में जांच को निष्क्रिय करने के आरोप में दो विशेष पुलिस अधिकारियों दीपक खजुरिया और सुरेंद्र वर्मा को भी गिरफ्तार किया गया।

सांजी राम से कथित तौर पर चार लाख रुपये लेने और महत्वपूर्ण सबूतों को नष्ट करने के मामले में हैड कांस्टेबल तिलक राज एवं एसआई आनंद दत्ता को गिरफ्तार किया गया। जिला और सत्र न्यायाधीश ने आठ आरोपियों में से सात के खिलाफ दुष्कर्म और हत्या के आरोप तय किए थे। किशोर आरोपी के खिलाफ मुकदमा अभी शुरू नहीं हुआ है और उसकी उम्र संबंधी याचिका पर जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय सुनवाई करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *